दिल्ली का इतिहास | दिल्ली कौन से प्रदेश में है | History of Delhi in Hindi | History of Delhi in Hindi Wiki

दिल्‍ली | Delhi 

दिल्ली का इतिहास | दिल्ली कौन से प्रदेश में है | history of delhi in hindi

भारत का एक प्रमुख आर्थिक शहर शिक्षा, यातायात सुविधाओं, आर्थिक सम्‍पन्‍नता, जॉब की संभावनाओ और परचेजिंग पावर में दिल्‍ली का पहला स्‍थान है।

नई दिल्ली (New Delhi) भारत की राजधानी है। यह भारत सरकार और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली सरकार के केंद्र के रूप में कार्य करती है। नई दिल्ली दिल्ली महानगर के भीतर स्थित है, और यह दिल्ली संघ राज्य क्षेत्र के ग्यारह ज़िलों में से एक है।

वर्ष 2011 में दिल्ली महानगर की जनसंख्या 2.18 करोर (crores) थी अभी 2021 में तो लगभग 3.1 करोर (crores) पहुँच गयी होगी । दिल्ली की जनसंख्या इसे दुनिया में पाँचवीं सबसे अधिक आबादी वाला, और भारत का सबसे बड़ा महानगर बनाती है।

क्षेत्रफल के अनुसार से भी, दिल्ली दुनिया के बड़े महानगरों में से एक है। मुम्बई के बाद, वह देश का दूसरा सबसे अमीर शहर है, और दिल्ली का सकल घरेलू उत्पाद दक्षिण, पश्चिम और मध्य एशिया के शहरों में दूसरे नम्बर पर आता है। नई दिल्ली अपनी चौड़ी सड़कों, वृक्ष-अच्छादित मार्गों और देश के कई शीर्ष संस्थानो और स्थलचिह्नों के लिए जानी जाती है।

1947 में भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद , नई दिल्ली को सीमित स्वायत्तता प्रदान की गई तथा यहाँ का प्रशासन भारत सरकार द्वारा नियुक्त मुख्य आयुक्त द्वारा किया गया। 1966 में, दिल्ली को केंद्रशासित प्रदेश में बदल दिया गया, तथा मुख्य आयुक्त को उपराज्यपाल द्वारा बदल दिया गया।

2015 के, मर्सर के, वार्षिक जीवन की गुणवत्ता के 230 शहरों के सर्वेक्षण मे, खराब हवा की गुणवत्ता और प्रदूषण के कारण, नई दिल्ली 154वें स्थान पर थी। 2014 मे, विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जाँचे गए दुनिया के 1600 शहरों मे, नई दिल्ली सर्वाधिक प्रदूषित शहर था।

16 दिसंबर 2015 को, भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने प्रदूषण को रोकने के लिए दिल्ली की परिवहन प्रणाली पर कई प्रतिबंधों को अनिवार्य कर दिया। अदालत ने 31 मार्च 2016 तक 2,000 cc और इससे अधिक इंजन क्षमता वाली डीजल कारों और स्पोर्ट यूटिलिटी वाहनों के पंजीकरण पर रोक का आदेश दिया। साथ ही अदालत ने दिल्ली की सभी टैक्सियों को 1 मार्च 2016 के बाद से, केवल संपीड़ित प्राकृतिक गैस का उपयोग करने का आदेश भी दिया, इसके अतिरिक्त, 10 साल से अधिक पुराने परिवहन वाहनों को राजधानी में प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

दिल्ली का नाम दिल्ली कैसे पड़ा? | Dilli ka name dilli kaise pada ?


कुछ इतिहासकार कहते हैं कि तोमरवंश के एक राजा धव ने इलाके का नाम ढीली रख दिया था क्योंकि किले के अंदर लोहे का खंभा ढीला था। यही ढीली शब्द बाद में दिल्ली हो गया। तोमरवंश के दौरान जो सिक्के बनाए जाते थे, उन सिक्कों को देहलीवाल कहा जाता था। इसी से शहर का नाम दिल्ली हो गया।

दिल्ली और नयी दिल्ली क्या है ? Difference Between Delhi And New Delhi ?


दोस्तों, एक कन्फ़्यूज़न रहता है की दिल्ली और नयी दिल्ली एक है या अलग – अलग, चलिए आज हम लोग इसे जानते है। दिल्ली एक केंद्र शाशित राज्य है, इस राज्य में नयी दिल्ली एक सहर है यानी जगह का नाम है, दिल्ली में बहुत सारे ऐसे लोकेशन है जैसे राजीव चौक, चाँदनी चौक, ओल्ड दिल्ली उसी तरह नयी दिल्ली भी एक एरिया है यानी स्थान है।

जैसे मान लीजिए झारखंड, बिहार उत्तर प्रदेश एक राज्य है लेकिन इनका सिटी – सहर नाम अलग है जैसे राँची, पटना और लखनऊ अगर इसका नाम ऐसा होता जैसे नयी झारखंड, नयी पटना और नयी लखनऊ तो कन्फ़्यूज़न रहता। इसी तरह से दिल्ली एक केंद्र शाशित राज्य है, और नयी दिल्ली इसका एक सहर है यानी जगह का नाम है।

भारत की राजधानी | Capital of India 


नई दिल्ली, आधिकारिक तौर पर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली (National Capital Territory of Delhi) भारत की राजधानी और एक केंद्र-शासित प्रदेश है। इसमें नई दिल्ली सम्मिलित है जो भारत की राजधानी है।

दिल्ली राजधानी होने के नाते केंद्र सरकार की तीनों इकाइयों - कार्यपालिका, संसद और न्यायपालिका के मुख्यालय नई दिल्ली और दिल्ली में स्थापित हैं।

नई दिल्ली भारत की राजधानी कब बनी थी | New Delhi bharat ke Rajdhani kab bani 


भारत में दिल्ली का ऐतिहासिक महत्त्व है। इसके दक्षिण पश्चिम में अरावली पहाड़ियां और पूर्व में यमुना नदी है, जिसके किनारे यह बसा है। यह प्राचीन समय में गंगा के मैदान से होकर जाने वाले वाणिज्य पथों के रास्ते में पड़ने वाला मुख्य पड़ाव था।

जैसे की हमलोग जानते है की दिल्ली को राजधानी बनाने का ऐलान 1911 में किया गया था लेकिन इसके लिए निर्माण कार्य प्रथम विश्व युद्ध के खत्म होने के बाद गति ले सका। 13 फरवरी 1931 लॉर्ड इरविन की मौजूदगी में इसका राजधानी के रूप में उद्घाटन हुआ।

18वीं एवं 19वीं शताब्दी में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने लगभग पूरे भारत को अपने कब्जे में ले लिया। इन लोगों ने कोलकाता को अपनी राजधानी बनाया। 1911 में अंग्रेजी सरकार ने फैसला किया कि राजधानी को वापस दिल्ली लाया जाए। इसके लिए पुरानी दिल्ली के दक्षिण में एक नए नगर नई दिल्ली का निर्माण प्रारम्भ हुआ। अंग्रेजों से 1947 में स्वतंत्रता प्राप्त कर नई दिल्ली को भारत की राजधानी घोषित किया गया।

स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात् दिल्ली में विभिन्न क्षेत्रों से लोगों का प्रवासन हुआ, इससे दिल्ली के स्वरूप में आमूल परिवर्तन हुआ। विभिन्न प्रान्तो, धर्मों एवं जातियों के लोगों के दिल्ली में बसने के कारण दिल्ली का शहरीकरण तो हुआ ही साथ ही यहाँ एक मिश्रित संस्कृति ने भी जन्म लिया। आज दिल्ली भारत का एक प्रमुख राजनैतिक, सांस्कृतिक एवं वाणिज्यिक केन्द्र है।

दिल्ली केंद्र शासित प्रदेश में कितने जिले हैं? | दिल्ली के जिलों के नाम | Delhi district list


दिल्ली भारत के राजधानी होने के साथ-साथ भारत की एक केंद्र शासित (union territory) भी है जो कि area के आधार पर 31 वे नंबर पर आती है जो कि लगभग 1484 वर्ग किलोमीटर में फैली हुई है । दिल्ली नगर यमुना नदी के किनारे बसा हुआ है जोकि हरियाणा और उत्तर प्रदेश राज्य से घिरा हुआ है ।

यहां पर कुछ समय पहले तक 9 ही जिले हुआ करते थे लेकिन वर्तमान समय में (2021) यहां पर जिलों की संख्या 11 हैं और वह 2 जिले जो बाद में दिल्ली में जोड़ दिए गए उनके नाम है साउथ ईस्ट और शाहदरा जिला हैं।

दिल्ली के जिलों की सूचि 2021 | दिल्ली में कितने जिले हैं उनके नाम बताइए | दिल्ली के 11 जिलों के नाम बताइए

  1. सेंट्रल दिल्ली जिला
  2. पूर्वी दिल्ली जिला
  3. नई दिल्ली जिला
  4. उत्तरी दिल्ली जिला
  5. शाहदरा जिला
  6. उत्तर-पूर्वी दिल्ली
  7. जिला उत्तर-पश्चिमी दिल्ली जिला
  8. दक्षिण दिल्ली जिला
  9. दक्षिण-पश्चिम दिल्ली जिला
  10. दक्षिण पूर्वी दिल्ली जिला
  11. पश्चिम दिल्ली जिला

अगर हम दिल्ली का छेत्रफल आधार पर सबसे बड़ी जिले जिला कौन सा है इसके बारे में बात करें तो दिल्ली के सबसे बड़ा “उत्तरी दिल्ली जिला” है तथा क्षेत्रफल के आधार पर दिल्ली का सबसे बड़ा छोटा जिला “शाहदरा जिला” है।

नई दिल्ली का क्षेत्रफल | दिल्ली शहर का क्षेत्रफल | New Delhi Area in Kilometer in hindi 

 
क्षेत्र फल के हिसाब से दिल्ली बहुत ही छोटा राज्य है जिसका एरिया 1484 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है जो झारखंड, बिहार और उत्तर प्रदेश के किसी एक ज़िला से भी छोटा है।

नई दिल्ली की जनसंख्या कितनी है | New Delhi population in hindi 2021 की जनसंख्या कितनी है? | Delhi population in 2021 in hindi


वर्तमान दौर में भारत की आबादी के संदर्भ में बात की जाए तो बिना किसी जनगणना के सटीक जनसंख्या का पता लगाना बेहद मुश्किल है। जनसंख्या वृद्धि दर संबंधी आंकड़ों पर नजर रखने वाली वेबसाइट वर्ल्डोमीटर के अनुसार 2021 में दिल्ली जनसंख्या के तौर पर भारत का दूसरा सबसे बड़ा महानगर है। यहाँ की जनसंख्या लगभग 3.1 करोड़ है।

दिल्ली की जनसंख्या 2011 में कितना था | Delhi population in 2011 in hindi

वर्ष 2011 में दिल्ली महानगर की जनसंख्या 2.18 करोर (crores) थी.

नई दिल्ली में बोली जाने वाली मुख्य भाषाएँ हैं: | New delhi me boli jane wali mukhya bhasha.

वैसे देखा जाए तो दिल्ली की राजकीय भाषा हिन्दी है। लेकिन राष्ट्रीय राजधानी होने के कारण याहा लगभग – लगभग सभी जगह के लोग रहने लगे है इसलिए दिल्ली में हिन्दी, अंग्रेजी, पंजाबी और उर्दू भाषाएं बोली जाती हैं।

दिल्ली किस राज्य में है | दिल्ली किस प्रदेश में है | दिल्ली किस प्रदेश में स्थित है.


यमुना नदी के किनारे स्थित इस नगर का गौरवशाली पौराणिक इतिहास है। यह भारत का अति प्राचीन नगर है। इसके इतिहास का प्रारम्भ सिन्धु घाटी सभ्यता से जुड़ा हुआ है। हरियाणा के आसपास के क्षेत्रों में हुई खुदाई से इस बात के प्रमाण मिले हैं। महाभारत काल में इसका नाम इन्द्रप्रस्थ था।

सुप्रीम कोर्ट ने 4th july 2018, बुधवार को दिल्ली में उपराज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच अधिकार की लड़ाई पर अपना फ़ैसला दे दिया है.

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फ़ैसले में कहा है कि दिल्ली के उपराज्यपाल के पास स्वतंत्र फ़ैसले लेने का कोई अधिकार नहीं है और उन्हें मंत्रिपरिषद के सहयोग और सलाह पर ही कार्य करना चाहिए, और भूमि, क़ानून-व्यवस्था और पुलिस को छोड़कर दिल्ली सरकार के पास अन्य सभी विषयों पर क़ानून बनाने और उसे लागू करने का अधिकार है.

कोर्ट के फ़ैसले में संविधान के अनुच्छेद 239AA का बार-बार जिक्र किया गया और दोनों पक्षों को याद दिलाया गया कि दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र है न कि रूप।

देश के सात केंद्र शासित प्रदेशों में से दिल्ली को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र कहा जाता है. 1991 में संविधान में 69वां संशोधन कर किया गया था, जिसके बाद अनुच्छेद 239AA और 239AB को लाया गया.

दिल्ली उद्योग | लघु उद्योग दिल्ली | लघु उद्योग इन दिल्ली वैसे दिल्ली

इंडस्ट्रीयल क्षेत्र नहि है लेकिन राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र देश में लघु उद्योग के सबसे बड़े केंद्रों में से एक के रूप में उभरा है। इस क्षेत्र में राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के समग्र विकास में अग्रणी भूमिका निभाने की एक विशाल क्षमता है। इसने उत्पादन, निर्यात और रोजगार में तेजी से वृद्धि दर्ज की है।

उद्योग विभाग नें योजना के लिए नोडल एजेंसी को बढ़ावा दिया और दिल्ली में उद्योगों का विकास किया | चूंकि दिल्ली एक राष्ट्रीय राजधानी और महानगर है। दिल्ली में परिष्कृत निर्यात उन्मुख लघु उद्योगों के साथ ही उन उद्योगों में जो पानी और बिजली भूमि ऐसे, के रूप में अपने अल्प संसाधनों खिंचाव नहीं है| 

हालांकि, एक लघु इकाई की स्थापना इन अनुरूप ही क्षेत्रों में स्थापित किया जा सकता है जो स्थान प्रतिबंध के अधीन है | पहले स्वतंत्रता के लिए, सुई जैसे भी छोटे इंजीनियरिंग मदों को देश के बाहर से आयात किया जा रहा थे| लेकिन आज अति संवेदनशील इंजीनियरिंग सामान, कम्प्यूटर, माइक्रो प्रोसेसर पर आधारित प्रणालियों दिल्ली के लघु उद्योग क्षेत्र द्वारा निर्मित किए जा रहे हैं| यह अपने आप अम्प्ली कि उद्योग विभाग की गई राजधानी में लघु उद्योगों को बढ़ावा देने में सहायक सिद्ध करता है|

संसद भवन | संसद भवन कहां है | संसद भवन कहां स्थित है. 

अगर का मार्ग देखा जाए तो : संसद मार्ग, गोकुल नगर, जनपथ, कनॉट प्लेस, नई दिल्ली, दिल्ली 110001 है.

संसद भवन में भारत की संसदीय कार्यवाही होती है। संसद की इमारतों में संसद भवन, संसदीय सौध, स्‍वागत कार्यालय और निर्माणाधीन संसदीय ज्ञानपीठ अथवा संसद ग्रंथालय सम्‍मिलित हैं। इन सभी को मिलाकर 'संसद परिसर' कहा जाता है। इसमें लंबे-चौड़े लान, जलाशय, फव्‍वारे और सड़कें बनी हुई हैं। यह सारा परिसर सजावटी लाल पत्‍थर की दीवारों तथा लोहे के जंगलों और लोहे के ही विशाल दरवाजों से घिरा हुआ है।

संसद में सेवा-सुविधाएं 

संसद में दोनों सदनों से संबंधित सारे काम के समुचित संचालन के लिए, लोक सभा सचिवालय और राज्यसभा सचिवालय बनाए गए हैं। दोनों सचिवालयों में सबसे शीर्ष पर एक महासचिव होता है। प्रत्‍येक सचिवालय अपने पीठासीन अधिकारियों और सभी सदस्‍यों को आवश्‍यक सलाह, सहायता और सुविधाएं प्रदान करता है। सचिवालय के अलग अलग भाग-अनुभाग हैं। जैसे विधायी कार्य, प्रश्‍नकाल, समिति प्रशासन, ग्रंथालय और सूचना सेवा, रिपोर्टिंग, भाषांतर और अनुवाद मुद्रण और प्रकाशन, सुरक्षा और सफाई।

संसद ग्रंथालय तथा सूचना-सेवा

भारतीय संसद के पास बहुत ही कुशल सूचना सेवा केंद्र है। साथ ही एक उत्तम संसदीय पुस्‍तकालय भी है। इसे संसद ग्रंथालय तथा संदर्भ, अनुसंधान, प्रलेखन और सूचना सेवा कहा जाता है। इसका पहला उद्देश्‍य संसद सदस्‍यों को देश विदेश के दैनिक घटनाक्रम की पूरी जानकारी उपलब्‍ध कराना है।

नया संसद भवन

नया संसद भवन मौजूदा संसद भवन के पास ही बनना प्रस्तावित है. ये एक तिकोनी इमारत होगी जबकि मौजूदा संसद भवन वृत्ताकार है.

सरकार और अधिकारियों के अनुसार संसद के बढ़ते काम के कारण एक नई इमारत के निर्माण की ज़रूरत महसूस की गई. अभी का संसद भवन ब्रिटिश दौर में बना था जो लगभग 100 वर्ष (93 वर्ष) पुराना है और उसमें जगह और अत्याधुनिक सुविधाओं की व्यवस्था नहीं है.

दिल्ली एनसीआर का क्या अर्थ है? | एनसीआर का मतलब क्या होता है | एनसीआर सिटी लिस्ट

भारतीय संविधान 69th Amendment Act 1991 के तरत भारत की राजधानी दिल्ली व उससे सटे कुछ इलाकों को मिलाकर एक NCR जोन बनाया गया.

Delhi NCR Full Form – National Capital Region है. जिसे हिंदी मे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र कहा जाता हैं एनसीआर (NCR) में दिल्ली से सटे सूबे उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान के कई शहर शामिल हैं।

एनसीआर में 4 करोड़ 70 लाख से ज्यादा आबादी रहती है। समूचे एनसीआर में दिल्ली का क्षेत्रफल 1,484 स्क्वायर किलोमीटर है। देश की राजधानी एनसीआर का 2.9 फीसदी भाग कवर करती है। एनसीआर के तहत आने वाले क्षेत्र में उत्तर प्रदेश के मेरठ, गाजियाबाद, गौतम बुद्ध नगर (नोएडा), ग्रेटर नोएडा, बुलंदशहर, बागपत, हापुड़ और मुजफ्फरनगर; और हरियाणा के फरीदाबाद, गुड़गांव, मेवात, रोहतक, सोनीपत, रेवाड़ी, झज्जर, पानीपत, पलवल, महेंद्रगढ़, भिवानी,जींद और करनाल जैसे जिले शामिल हैं। राजस्थान से दो जिले - भरतपुर और अलवर एनसीआर में शामिल किए गए हैं।

दिल्ली एनसीआर में कितने जिले हैं.

जुलाई 2013 में एनसीआर में तीन और जिलों को शामिल किया गया है जिसमें हरियाणा राज्य के भिवानी और महेंद्रगढ़, राजस्थान राज्य के भरतपुर जैसे जिले शामिल कर एनसीआर को विस्तारित किया गया था। अब एनसीआर में शामिल जिलों की संख्या बढ़ कर 19 हो गई है।

दिल्ली मेट्रो

दिल्ली मेट्रो भारत की राजधानी दिल्ली- एनसीआर की मेट्रो परिवहन व्यवस्था है जो दिल्ली मेट्रो रेल निगम लिमिटेड द्वारा संचालित है। इसका शुभारंभ 24 दिसंबर, 2002 को शहादरा तीस हजारी लाईन से हुई। इस परिवहन व्यवस्था की अधिकतम गति 80 किमी/घंटा (50मील/घंटा) रखी गयी है और यह हर स्टेशन पर लगभग 20 सेकेंड रुकती है। सभी ट्रेनों का निर्माण दक्षिण कोरिया की कंपनी रोटेम (ROTEM) द्वारा किया गया है।

दिल्ली मेट्रो भारत में सबसे बड़ा और व्यस्ततम मेट्रो है, और दुनिया की 9वीं सबसे लंबी मेट्रो प्रणाली लंबी अवधि में और 16 वीं सबसे बड़ी सवारी में है। CoMET के एक सदस्य, नेटवर्क में आठ रंग-कोडित नियमित रेखाएं होती हैं, जिसमें कुल लंबाई 317 किलोमीटर (197 मील) है जो 229 स्टेशनों (6 स्टेशन सहित एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन और इंटरचेंज स्टेशनों ) की सेवा करती है.

दिल्ली मेट्रो सुबह कितने बजे चलती है today | दिल्ली मेट्रो टाइम टेबल

आप मेट्रो स्टेशन पर सुबह 5:30 प्रवेश कर सकते है। इसके अलावा आप विमान अड्डे तक पहुंचने के लिए जो एक मात्र मेट्रो सेवा है, जो कि निर्धारित स्टेशन पर है उसका प्रयोग सुबह 4:50 तक कर सकते है। मेट्रो सेवाएं आमतौर पर 5:30 बजे से शाम 11:30 बजे शुरू होती हैं। मेट्रो सेवाएं आमतौर पर 5:30 बजे से शाम 11:30 बजे शुरू होती हैं।

दिल्ली मेट्रो गवर्नमेंट और प्राइवेट

Delhi Metro Rail Corporation Limited कंपनी द्वारा किया जाता है. DMRC एक Centre-state Public Sector company है, मतलब यह केंद्र और राज्य सरकार दोनों मिलकर चलाते हैं. इसकी स्थापना 3 मई 1995 को की गई थी. 

दिल्ली परिवहन निगम DTC | दिल्ली परिवहन निगम New Delhi DTC Bus

दिल्ली परिवहन निगम (Delhi Transport Corporation - DTC) दिल्ली की सरकारी जन-परिवहन सेवा है। यह विश्व की सबसे बड़ी बस सेवा है जो पूर्णतया संपीडित प्राकृतिक गैस से चलती है। यह दिल्ली के अंदर और आस-पास के प्रदेशों के कई नगरों तक बसें चलाती है। यह दिल्ली और लाहौर के बीच चलने वाली ऐतिहासिक बस सेवा भी चलाती है। दिल्ली परिवहन निगम की शुरुआत मई 1948 में की गई। यह आजकल राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की सरकार के अंतर्गत आती है। इसे आम बोलचाल में डीटीसी भी कहा जाता है।

दिल्ली के अंदर चलने वाली बसें 34 डिपो से चलती हैं और अन्तर्राज्यीय बसें तीन अन्तर्राज्यीय बस अड्डों से चलती हैं, जोकि कश्मीरी गेट, सराय काले खां और आनन्द विहार पर हैं। ये बसें सुबह से प्रारंभ होकर अनेक मार्गों पर रात 10:30 तक चलती रहती हैं।

दिल्‍ली में बहुत सारे फ़ेमस/ प्रसिद स्थान है जैसे कि:

लाल क़िला | Lal Qila
इंडिया गेट | India Gate
जमा मसजिद | Jama Masjid
कमल मंदिर | Lotus Temple
क़ुतुब मीनर | Qutubminar 
अक्षरधाम मंदिर | Swaminarayan Akshardham (New Delhi)
छत्तरपुर मंदिर | Chhatarpur Temple 
इस्कॉन मंदिर | International Society for Krishna Consciousness
हुमायूँ का मकबरा | Humayun’s Tomb 
दिल्ली चिड़ियाघर | National Zoological Park Delhi in Hindi

FAQ (Frequently Asked Questions)

Q. दिल्‍ली का मुख्य भाषा क्या है ?

 हिंदी | Hindi 

Q. नई दिल्‍ली किस राज्य में है?

दिल्‍ली | Delhi

Q. दिल्ली का राजधानी क्या है?

नई दिल्ली (New Delhi) भारत की राजधानी है।

Q. दिल्ली का सबसे पहले नाम क्या था?

दिल्ली का पुराना नाम “इंद्रप्रस्थ” था । जाहा पांडवों कभी रहा करते थे और उनकी राजधानी थी।

दिल्ली को पहले क्या कहते थे?

दिल्ली को भारतीय महाकाव्य महाभारत में प्राचीन इन्द्रप्रस्थ, की राजधानी के रूप में जाना जाता है। उन्नीसवीं शताब्दी के आरंभ तक दिल्ली में इंद्रप्रस्थ नामक गाँव हुआ करता था।

दिल्ली का दिल्ली नाम कैसे पड़ा?

कुछ इतिहासकार कहते हैं कि तोमरवंश के एक राजा धव ने इलाके का नाम ढीली रख दिया था क्योंकि किले के अंदर लोहे का खंभा ढीला था और उसे बदला गया था। यह ढीली शब्द बाद में दिल्ली हो गया। एक और तर्क यह है कि तोमरवंश के दौरान जो सिक्के बनाए जाते थे उन्हें देहलीवाल कहा करते थे। इसी से दिल्ली नाम पड़ा।

दिल्ली का क्षेत्रफल क्या है?
1,484 km²


पुरानी दिल्ली को पहले क्या बोलते थे?

शहर का इतिहास महाभारत के जितना ही पुराना है। इस शहर को इंद्रप्रस्थ के नाम से जाना जाता था, जहां कभी पांडव रहे थे। समय के साथ-साथ इंद्रप्रस्थ के आसपास आठ शहर : लाल कोट, दीनपनाह, किला राय पिथौरा, फिरोज़ाबाद, जहांपनाह, तुगलकाबाद और शाहजहानाबाद बसते रहे।

दिल्ली का क्या अर्थ है?

दिल्ली- संज्ञा स्त्रीलिंग जमुना नदी के किनारे बसा हुआ उत्तरपश्चिम भारत का एक बहुत प्रसिद्ध और प्राचीन नगर जो स्वतंत्र भारत की राजधानी है.

कौन से शासक ने दिल्ली को सबसे पहले अपनी राजधानी बनाया?
1334 ईसवी में जहांपनाह शहर को मुहम्मद-बिन-तुगलक ने बनवाया.

भारत की राजधानी कलकत्ता से दिल्ली कब हुई?

दिल्ली को राजधानी बनाने का ऐलान 1911 में किया गया था लेकिन 13 फरवरी 1931 लॉर्ड इरविन की मौजूदगी में इसका राजधानी के रूप में उद्घाटन हुआ।.

दिल्ली कितना पुराना शहर है?

अकबर के पोते शाहजहाँ (1628-1678) ने सत्रहवीं सदी के मध्य में इसे सातवीं बार बसाया जिसे शाहजहानाबाद के नाम से पुकारा गया। शाहजहानाबाद को आम बोल-चाल की भाषा में पुराना शहर या पुरानी दिल्ली कहा जाता है। पुरानी दिल्ली 1638 के बाद मुग़ल सम्राटों की राजधानी रही।

दिल्ली में कुल कितने जिले हैं?
दिल्ली में 11 राजस्व जिले (Revenue Districts) है

दिल्ली में कौन सी नदी बहती है?
यमुना नदी है.

दिल्ली को एनसीआर का दर्जा कब दिया गया?
69 वां संविधान संशोधन 1991 में हुआ। जिसके अंतर्गत दिल्ली को विशेष केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया। NCT की स्थापना 1 फरवरी 1992 को पूर्ण हुई।


भारत की राजधानी दिल्ली का प्राचीन नाम क्या था?

दिल्ली का पुराना नाम “इंद्रप्रस्थ” था


दिल्ली का प्रथम मुस्लिम शासक कौन था?
ममलूक या गुलाम (1206 - 1290)

दिल्ली का हिन्दू शासक कौन था?
हेमू अथवा सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य दिल्ली के सिंहासन पर बैठे अंतिम हिन्दू सम्राट थे 

क्या दिल्ली और नई दिल्ली के बीच अंतर है?
दिल्ली और नई दिल्ली के बीच प्राथमिक अंतर यह है कि दिल्ली भारत का एक शहर और केंद्र शासित प्रदेश है, जबकि नई दिल्ली दिल्ली के 11 जिलों में से एक है। इसलिए, नई दिल्ली बड़ी दिल्ली का एक छोटा सा हिस्सा है।


दिल्ली राज्य कब बना?
स्टेट्स रिऑर्गेनाइजेशन एक्ट 1956 के प्रभाव में आने के बाद 1 नवंबर 1956 को दिल्ली को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिला. 1991 में एक संशोधन के जरिए दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र बना. दिल्ली को अपनी विधानसभा मिली.

अंग्रेजों ने दिल्ली पर कब अधिकार कर लिया?
1803 ई. में शहर पर अंग्रेजों का कब्जा हो गया।

दिल्ली कहाँ स्थित है?

भारत की राजधानी दिल्ली यमुना नदी के किनारे स्थित है और यह 1483 वर्ग किलोमीटर के इलाके में फैली है। दिल्ली अपनी उत्तरी, दक्षिणी और पश्चिमी सीमा पर हरियाणा और पूर्व में उत्तर प्रदेश से घिरी है। दिल्ली उत्तर भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक केंद्र है और यहां की संस्कृति यहां के महत्वपूर्ण इतिहास से प्रभावित है।

दिल्ली की जनसंख्या कितनी है 2021?
लगभग 3 करोड़

ईस्ट दिल्ली में कौन कौन से एरिया आते हैं?
श्रेष्ठ विहार
योजना विहार
सविता विहार
दयानंद विहार
लक्ष्मी नगर (दिल्ली)
शकरपुर
गणेश नगर
पांडव नगर
मंडोली (Mandaoli)
जगतपुरी
गीता कॉलोनी
निर्माण विहार
ज्योति नगर (पूर्व)
ज्योति नगर (पश्चिम)
प्रीत विहार
मंडावली
मयूर विहार
पतपड़गंज
गाजीपुर
वसुंधरा एंक्लेव
मयूर विहार फेज - 3
गांधी नगर
आनंद विहार
सैनी एंक्लेव
सूरजमल विहार
पुष्पंजलि
न्यू अशोक नगर
बाहुबली एन्क्लेव
शहादरा
बाबरपुर
विश्वास नगर
कृष्णा नगर
दिलशाद गार्डन
दिलशाद कॉलोनी
पश्चिम विनोद नगर
विवेक विहार
नई गोबिंद पुरा
वैशाली
ताहिरपुर
त्रिलोकपुरी

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने